X Close
X
9935100006

याचिकाकर्ता ने उच्चतम न्यायालय से लगायी गुहार—‘जवानी से लड़ रहा हूं अयोध्या केस, अब उम्र 80 पार’


Lucknow:नई दिल्ली : रामजन्मभूमि मामले की उच्चतम न्यायालय में आज सुनवाई की गई. शीर्ष अदालत में याचिकाकर्ताओं की ओर से मध्यस्थता को तुरंत रोककर फैसला सुनाने के लिए कहा गया था. लेकिन अदालत ने ऐसा करने से इनकार कर दिया. मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने अदालत से एक गुहार लगाई, जिसमें कहा कि अयोध्या विवाद जब शुरू हुआ था तब वह जवान थे, लेकिन अब उम्र 80 के पार हो गई है. इसलिए अब अदालत को इस पर फैसला जल्द सुना देना चाहिए. दरअसल, निर्मोही अखाड़ा ने अदालत में मध्यस्थता के खिलाफ याचिका दायर की थी. याचिकाकर्ता के वकील ने सुनवाई के दौरान कहा कि ये मामला 1950 से चल रहा है, मध्यस्थता से हल मुश्किल ही निकल पाएगा. अब 60 साल से अधिक का समय हो गया है. वकील ने कहा कि याचिकाकर्ता ने जब केस की शुरुआत की थी तो वह काफी जवान था, लेकिन अब उम्र 80 साल के पार हो गई है. लेकिन मामला अभी तक सुलझ ही नहीं पाया है. निर्मोही अखाड़े ने बार-बार अदालत से यही बात कही कि मध्यस्थता पैनल सिर्फ वन टू वन मीटिंग के अलावा कुछ नहीं कर रहा है. ऐसे में हम नतीजे की तरफ कैसे बढ़ते दिख रहे हैं. हालांकि, न्यायालय ने तुरंत मध्यस्थता को खारिज करने से इनकार कर दिया. मुख्य न्यायाधीश ने मध्यस्थता पैनल से इस मामले में रिपोर्ट मांग ली है. पैनल को ये रिपोर्ट 18 जुलाई तक देनी होगी, जिसके बाद 25 जुलाई को इस पर सुनवाई होगी. अब 25 जुलाई को ही ये तय होगा कि इस मामले में रोजाना सुनवाई होगी या नहीं. सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि अगर मध्यस्थता पैनल कहता है कि ये कारगर नहीं है तो तभी से इस मामले की रोजाना सुनवाई की जाएगी. ये सुनवाई ओपन कोर्ट में होगी.
Dastak Times